Friday, July 6, 2012



लबों से बातें हो कुछ , गिलें शिकावें और सही
 आखें अभी नम है , कुछ बातें और सही

युएँ ही दिल लगा लिया , कह गये हमसे य़ू
जैसे दिल बहलाने के लिए, एक खिलौना और सही

युही पढ़ले हालें दिल, कभी कही किसी रोज़
हजारों खतों मैं , एक खत और सही




तू कभी याद  करे , और मेरी याद हों
तेरी खाली आखों मैं, मेरे आसूं और सही




..............Not completed yet