Thursday, May 17, 2012




  थोडा  बहोत  तो सब  जान  लेतें  हैं  
    समझतें सब है , काम कुछ  आतें हैं 
  
     यूँही सबक सीख लिया हमनें ,
     दुश्मन  नहीं ,कुछ  दोस्त  सिखा  जातें हैं




  एक  पल मैं सिमट लेट हैं वो  हमें 
   हम  ज़िन्दगी भर के लिए बिखर जाते है 

   क्या कोई समझे , तू ना लिख  सोनी 
   नासमझ  आपबीती पे  वाहवाही किये जाते है