Wednesday, April 4, 2012

dontknowtitle



                   
                                       हम  करें मुहब्बत , मुहब्बतें समां कहाँ है
                                        हम करें इबादत और खुँदा कहाँ है


                                       सब कहें सच और हर कोई सच्चाई परस्त है                               
                                        झूठ से भरें लोगो में ज़मीर कहाँ है 




उभर कर आये हम, गमें समंदर से यूँ 
पानी से भरें आखों में आसूं कहाँ है 

यूँ ना मिटें प्यास,सोनी कोई सागर पिजा 
फिर भी गर रहें प्यासी तो माहि कहाँ है 

2 comments:

  1. wow! that is really well written !! :) Good work !

    Abhay

    ReplyDelete