Tuesday, July 5, 2011

मिलता नहीं जवाब , क्या सवाल गलत हो जाते है
क्या इलज़ाम लगायें इंसानों पर , क्या हालत गलत हो जाते है

बेदाग़ सी ज़िन्दगी पर एक शीट धब्बा सी नजर आती है
दागों से भरें दामन लगें साफ़ , क्या नज़रियें गलत हो जाते है

मुश्किलें मिलती है हर मुसाफिर को , मंजिले आसानिसे नहीं मिलाती
आसानीसे मिली शोहरत मैं क्या नीयतें बदल जाती है



2 comments:

  1. They say, a fool is the one who knows the cost of all and the worth of none.

    Jo kaanto ke path par chale, phoolon ka uphaar usi ko.
    Neeyat to banane par hai, jaisi banao, seerat mein utar jaati hai.


    Bahut achhi panktiyaan hain.


    Cheers,
    Blasphemous Aesthete

    ReplyDelete